Monday, 30 March 2015

मैं रिश्ता जिससे तोड़ देता हूँ तो तोड़ देता हूँ

मैं रिश्ता जिससे तोड़ देता हूँ तो तोड़ देता हूँ
जिसका साथ छोड़ देता हूँ तो छोड़ देता हूँ...
मोहब्बत ही नहीं
मैं तो नफरत भी
बड़ी ईमानदारी के साथ करता हूँ...

मुझे फर्क नहीं पड़ता है कुछ भी तेरे कहने से
तेरे चीख़ने से, तेरे चिल्लाने से,
मैं तुझसे क्या, तेरे रब से भी नहीं डरता हूँ... 
मैं रिश्ता जिससे तोड़ देता हूँ तो तोड़ देता हूँ... 

हम भी हुए है बड़े बदनाम तेरी वजह से ज़माने में
तेरी वजह से अपने भी साथ छोड़ चले गए है ज़माने में
तेरी दुआएं सोती रही, किसी ग़ैर के आशियाने में
न मैं राज था... न मैं राज हूँ...
मैं रिश्ता जिससे तोड़ देता हूँ तो तोड़ देता हूँ... 

RRSA

No comments:

Post a Comment