Monday, 27 April 2015

खूबसूरत होकर भी नकाबों में नहीं रहते है फूल

Hasrat-E-Deedar dil mein liye baithe hai
Hum Somvaar ko bhi Itvar samajh baithe hai
Aur khoobsurat hokar bhi naqabon mein nahi rehte hai phool
Ek yaar hamara hai jo barson se hijaab kiye baithe hai.

हसरत-ए-दीदार दिल में लिए बैठे है
हम सोमवार को भी इतवार समझ बैठे है
और खूबसूरत होकर भी नकाबों में नहीं रहते है फूल
एक यार हमारा है जो बरसों से हिजाब किये बैठे है।

- Sultan

No comments:

Post a Comment