Saturday, 25 April 2015

बड़ा बेबस हैं इंसान अपने मुक़द्दर के आगे

बड़ा बेबस हैं इंसान अपने मुक़द्दर के आगे
कितनी दुआ 
कितने सजदे
कितनी मन्नते
इंसान सब कुछ करता है रोमिल
दिल की मजबूरियों के आगे...

No comments:

Post a Comment