Sunday, 16 August 2015

दीदार

आज सोचा था सुबह की पहली किरण के साथ उनका दीदार कर लू रोमिल
लेकिन उनका खवाब ही इतना हसीं है की जागने नहीं देता...

No comments:

Post a Comment