Wednesday, 30 September 2015

अपने आपसे शिकायतें कैसी?

जिम्मेदारियाँ हो, चाहे मजबूरियाँ 
कुछ भी हो "सनी"
जिंदा तो रहना ही हैं तुझे 
फिर अपने आपसे शिकायतें कैसी?

No comments:

Post a Comment