Monday, 16 November 2015

एहसास

यह अलग बात है इसका एहसास उसके जैसा है
मगर हू-बा-हू यह कहाँ मेरे महबूब जैसा है...

- सन

No comments:

Post a Comment