Thursday, 28 January 2016

अगर तसल्ली के दो बोल ही बोल देती वोह

Agar tasalli ke do bol hi bol deti woh
Main yeh samaj leta mohabbat mein hara nahi hoon Main...

अगर तसल्ली के दो बोल ही बोल देती वोह 
मैं यह समझ लेता मोहब्बत में हरा नहीं हूँ मैं


- रोमिल

No comments:

Post a Comment