Saturday, 30 January 2016

किसी के बिछड़ने से कोइए मर नहीं जाता

वक़्त के साथ हमराज़ बदल जाते हैं
हर एहसास बदल जाते हैं
किसी के बिछड़ने से कोइए मर नहीं जाता
बस जिंदा रहने के पैमाने बदल जाते हैं.

- Sun

No comments:

Post a Comment