Sunday, 28 February 2016

खुला पड़ा हुआ है मेरा दिल-ए-समुन्दर, किताब की सूरत में

ab rehne aur sunne ko bacha hi kya hai
na koi tumse shikwa, na koi shikayat hai
khula pada hua hai mera dil-e-samundar... kitab ki surat mein
aur tum ab bhi puchati ho yeh chup rehne... yeh udasi ki wajah kya hai...

- Sun

अब रहने और सुनने को बचा ही क्या है
न कोई तुमसे शिक़वा, न कोई शिकायत है
खुला पड़ा हुआ है मेरा दिल-ए-समुन्दर किताब की सूरत में
और तुम अब भी मुझसे पूछती हो यह चुप रहने, यह उदासी की वज़ह क्या है.... 

- सन 

Anand

Prem usi de naal hota hai, jo hirday mein basta hai... Simran usi da hota hai, jo mann wich basta hai... Sirf Ram-Ram japne se anand nahi aayega, jab tak Ram ko hirday mein nahi basaoge...

bas tum hi tum...

Salaria bhi tum Walia bhi tum
Arora bhi tum Chopra bhi tum
Sharma bhi tum Verma bhi tum
Gupta bhi tum Mehrotra bhi tum
Dubey bhi tum, Chaubhey bhi tum
Dwivedi bhi tum, Trivedi bhi tum, Chaturvedi bhi
Srivastav bhi tum, Yadav bhi tum...

tum hi tum
bas tum hi tum...

hahaha

- Sun

Friday, 26 February 2016

Bahut yaad aati hai...

Bahut yaad aati hai...

Banaras ki galiyon mein milne wali kulhad wali chai ki...
Nagpur... Chattisgarh ki Dabeli... Dabeli... Dabeli ki..
Madhya Pradesh ka poha-jalebi... Hyderabad ki namkeen papadi-jalebi ki..
Gupchup ya gole gappe ya pani poori ya pani fhulki ya fir kahe pani ke batashe ki...
Palak chat.. aloo chat... matar chat.. aloo papdi... chidwa matar ki..
Lakhnav ki makkan-malai ya yeh kahe Dilli ki Daulat ki Chat ki...
Bati chokha... litti chokha... daal baati ki...

Bahut yaad aati hai... desi khane ki...

- Sun


bahadur hun ya fir baigerat...

bahadur hun ya fir baigerat... samaj nahi aata...

itna behjhat hone ke baad bhi usse ishq karta hun... ya yeh kahe itna behjhat hone ke baad bhi zinda hun...

shikastha

Woh aayegi... aayegi... aayegi
Miya... is umeed par to hum maut ko bhi shikastha de de...

Thursday, 25 February 2016

True Line...

Majlum agar Mazlum se ladega to fir Zalim ka samna kaun karega...

True...

Nice Line...

Main to bas thoda sa apni zindagi mein galat hota dekhkar Khuda pe apna gussa utaar leta hoon..
.
Na jaane is dunia mein itna kuch galat hota dekhkar Khuda kispar apna gussa utarrata hoga...

True...  

Kabhi Aashna Kabhi Ajnabi - Title Song and Lyrics


Kabhi Aashna Kabhi Ajnabi Serial Title Song Lyrics
Singer – Rekha Bhardwaj

Kabhi Aashna Kabhi Ajnabi
Hai kabhi Gumaan To Kabhi Yakeen
Tu Jo Paas Hai Kahan Saath Hai
Mere Humnawa Mere Humnasheen

Kabhi Aashna Kabhi Ajnabi
Hai kabhi Gumaan To Kabhi Yakeen

Meri aankhon Ka tu Kajal Hai to Bikhra Kyon Hai
Humnasheen paas tere dil mera tanha kyon hai
teri lahron me jo dooba hai to pyaasa kyon hai
Mile aise ke mile hi nahi

Kabhi Aashna Kabhi Ajnabi
Hai kabhi Gumaan To Kabhi Yakeen

Nice Line...

Tumne uski mohabbat nahi jeeti hai...
majbooriyaan kharidi hai...

Nice...

tere naam ka ek diwana hai

sahara mujhko tere intezaar ka hai
tere naam ka ek diwana hai
jab se piya hai tere naam ka piyala
zindagi main fir na naam kisi ka liya hai
tere naam ka ek diwana hai....
***
fir wahi sahara, rageen nazara dedo
apne diwane ko madhosi ka paimana dedo
sawar jaye meri zindagani
fir wahi saath dedo..
log ab yeh kehne lage hai
tere naam ka ek diwana hai....
***
tere naam par jaan dene ka hain mujhko ikhtiyaar
khuda ke ishare ki zarurat nahi
tera naam jo paya, mila mujhe jahaan
ab mujhe kisi ki zarurat nahi...
***
mit jaye yeh zindagi tere naam par
mere liye isse baada koi tohfa nahi...
sahara mujhko tere intezaar ka hai

tere naam ka ek diwana hai...

- Sun

Wednesday, 24 February 2016

प्रकृति

प्रकृति जो चाहती है वह निर्माण करती है... समय-समय पर निर्माण करती रहती है, ऐसा नहीं कि ७ दिनों में यह दुनिया बन गई... प्रकृति जब चाहती है तब निर्माण करती है.... उसे जब लगता है की इसकी जरुरत है तब निर्माण करती रहती है... अगर ऐसा कहा जाये की वह निरंतर निर्माण में लगी है तो गलत नहीं होगा...

माँ पार्वती ने गणेश जी का जन्म स्वयं किया... शिव जी ने उनकी इच्छा नहीं मानी तो उन्होंने स्वयं गणेश जी का निर्माण किया... नरसिंघ जी, वरहा अवतार हो या फिर माँ दुर्गा के अनेकों-अनेक रूप...

कई ऐसे पंछी, जानवर, पेड़-पौधे या फिर इस ब्रह्मांड में है जो समय-समय निर्माण होता रहता है और समय-समय पर लुप्त भी होता रहता है...

प्रकृति थी, है और हमेशा रहेगी...

यह फिलॉसफी है...

Timepass: Badi yaad aati hai...

badi yaad aati hai...

Gujrat, Rajasthani thali ki...
Dilli ke parathe wali gali... aur thelo pe lagati Chat-Batashe ki...
Bombay ki irani cutting chai sang pav ki...

badi yaad aati hai...

Kolkata ki mithai ki...
Chattisgarh ke Dabeli ki... (Dabeli... Dabeli... Dabeli...)
Punjab ke Sarson ke saag-makke di roti sang lassi ki... Amritsari chole-kulche ki...

badi yaad aati hai...

Haryana ki dahi-dudh ki...
Madhya Pradesh ke poha aur jalebi ki...
Hyderabad ke ghost-biryani ke mehak ki...

badi yaad aati hai...

Jammu-Kashmir ke mevon ki...
Orissa ke jagannath prasad ki...
Himachal Pradesh ke vegetable soup ki...
Uttaranchal ke Daal-Roti ki...

badi yaad aati hai...

- Sun

Monday, 22 February 2016

Khuda bas tusse itna sa rishta hai...

Na main teri samajhata hun,
Na tu meri samajhata hai...

Khuda bas tusse itna sa rishta hai...

- Sun

Sunday, 21 February 2016

फिर दीवानेपन की हसरत जाग रही हैं

फिर दीवानेपन की हसरत जाग रही हैं
सच पूछो तो मोहब्बत जाग रही हैं...
***
हसीनो का तो काम होता हैं जलाना 
सच पूछो तो परवाने की जलने की तमन्ना जाग रही हैं...
***
ऐसा कहाँ कोइए मिला जो दर्द न दे 
सच पूछो तो दर्द को फिर अपनाने की आरज़ू जाग रही हैं...
***
चाहत तो कहती हैं कि सब कुछ लूटा दूं रोमिल 
बरसों से जो खामोश थी ख़ामोशी जाग रही हैं...
***
फिर दीवानेपन की हसरत जाग रही हैं
सच पूछो तो मोहब्बत जाग रही हैं...

- Sun

Company Model

Company basically 2 hi model hote hai...

Ek Indian political style aur Dusara Indian Bollywood style.

Indian political style... yani Ek Prime Minister, Ek Home Minister, Ek Finance Minister fir State Government... Jo World Bank ke loan par chalti hai... Aise hi Company mein Ek Director, Ek Human Resource Executive, Ek Finance Controller, Ek MIS Head fir State Office, District Office aur uska Organogram...

Indian Bollywood style... yani Main hi Writer, Main hi Director aur Main hi Hero ya Meri Biwi Producer ya Heroine... hehehe.... Company mein Main hi Chief Executive Officer, Meri wife Director... Mera Bhai/ Beta/ Beti - AVP... hahahaha...

Desi bhasha mein kehte hai "Apni Dukaan"...

Timepass: Akal pe zor

Jyada akal par zor mat do, ghutano mein dard hone lagega...

hahaha

Saturday, 20 February 2016

शुभ मुहूर्त...

शुभ मुहूर्त... हर पल खूबसूरत है.... हर पल उस ईश्वर का है... हर एक पल को अगर हम ध्यानपूर्वक देखे तो इस दुनिया में एक पल में कितना कुछ घटित हो रहा होगा... 

कोई इस एक पल में किसी को जन्म दे रहा होगा, कोई उसी इस पल में मृत्युं को प्राप्त हो रहा होगा, कोई भोजन कर रहा होगा, कोई सो रहा होगा, कोई स्नान कर रहा होगा, कोई किसी मंदिर में पूजा कर रहा होगा, कोई खेल रहा होगा, कोई विवाह-प्यार-संभोग कर रहा होगा, कोई अन्य कोई सांसारिक कार्य कर रहा होगा...

इस संसार में एक पल में बहुत कुछ हो रहा होगा... जो पल एक के लिए अशुभ होगा, वही पल किसी दूसरे मनुष्य के लिए शुभ होगा...

इसलिए हर पल शुभ मुहूर्त है...

हम सब एक व्यवस्था में बंधे हुए है, क्यूंकि यह व्यवस्था एक संसार को चलाने के लिए आवश्यक है... इसलिए इसका सम्मान करना चाहिए... यह संस्कृति है.... 

यह फिलॉसफी है...

meri naakamiyon ke baad kaam aaye

meri naakamiyon ke baad kaam aaye
mere apne mujhe bahut yaad aaye...

kaash fir ho wahi mohabbat ka manzar
wahi mohabbat ke din
uske paigaam aaye...

armaan-e-deed liye woh shaks mit gaya khaak mein
bahut dair baad...
bahut dair baad...
hamare yaar aaye...

aur

woh shakhs jo mere haaton ko chhod kar bhaga tha
khuda bachaye kahi use zamane ki hawaa na lag jaye...

- Sun

Friday, 19 February 2016

नर्क...

नर्क... जो कुछ है वह इसी पृथ्वी पर है.... जब मृत्युं प्रश्चात आपका शरीर यही पृथ्वी पर जल गया... और गीता में अध्याय २ शलोक २३ में कृष्णा जी "आत्मा" के बारे में कहते है कि "इस आत्मा को शस्त्र नहीं काट सकते, इसको आग नहीं जला सकती, इसको जल नहीं गला सकता और वायु नहीं सुखा सकता ।। २३ ।।" 

आपका शरीर यही राख हो गया, आत्मा को कुछ कोई कर सकता... फिर नर्क, जहन्नुम की यातनाएँ कैसी? जो दुःख-दर्द, तकलीफ, नरक है वह इसी पृथ्वी पर है... कर्मो के अनुसार मनुष्य को जीवन भोगना पड़ता है...

गरुण पुराण में नर्क का वर्णन अवश्य है... शायद वह कर्मो के महत्व को समझाना चाहते है... अगर इस संसार को भली प्रकार देखे तो इस संसार में कितनी यातनाएँ मनुष्य भोग रहा है.... धन-सम्पदा के बाद भी, मन ही मन ईर्ष्या की लौ में जल रहा है, तड़प रहा है... दूसरों की ख़ुशी, सुख-शांति मनुष्य के मन में काँटों की तरह चूभ रही है... यही नर्क है... 

यह फिलॉसफी है....

kareeb hokar bhi fhasala rakhana

kareeb hokar bhi fhasala rakhana
tumko yunh chup-chup kar tkana...

jab bhi milana mujhse yeh khayal rahe
mere sawalon ke jawab taiyaar rakhana...

aur

mere ghar ki chaukhat-e-jannat bahut door hai tumse
ghar se jab nikalna to mera pataa saath rakhana...

aur

madad ki tumse umeed to khair kya hogi
fir bhi mere kandhe pe jhootein saharon ka haath rakhana...

- Sun 

Wednesday, 17 February 2016

अमृत...

अमृत... मनुष्य जो जीवन-मृत्युं के चक्र में पड़ा रहता है... शायद यह समझाया गया है की देवों ने अमृत... पिया हुआ है, इसलिए भयभीत होने की जरुरत नहीं है...सूर्य, चन्द्र, आकाश, पृथ्वी, इंद्रा, वायु सबने अमृत पिया हुआ है, इसलिए भयभीत होने की जरुरत नहीं है...  डर की आवश्कता नहीं है... निश्चिंत होकर जीवन जियो...

अगर ऐसा नहीं होता तो शायद मनुष्य भयभीत रहता की आज चन्द्र, सूर्य फट जायेंगे और सब मृत्युं को प्राप्त हो जायेंगे, शायद इसी भय को खत्म करने के लिए अमृत पिलाने की बात कही गई है...

मनुष्य, भय से ही दूसरी दुनिया में जीवन को सोचने लगता है... मंगल, चन्द्र या अन्य ग्रह में जीवन तलाश करने लगता है...  

शायद इसी भय को खत्म करने के लिए यह समझाया गया है की ४०००-५००० बरसों से सूर्य, चन्द्र, आकाश, पृथ्वी, इंद्रा, वायु सब अपना कार्य कर रहे है सबने अमृत पिया हुआ है...

यह फिलॉसफी है...

या यह कह सकते है की जब मंथन किया जाता है तो जीवन मिलता है, नया रास्ता मिलता है, नया विचार उत्पन्न होता है... देव-दानव दोनों शत्रु... अगर शत्रु भी मंथन करे तो अमृत प्राप्त कर सकते है, नया जीवन प्राप्त कर सकते है... एक दूसरे से लड़-झगड़ कर शक्ति बर्बाद करने से अच्छा है कि मंथन करके नया जीवन खोजें... 

सच तो है सब एक निश्चित अवधि के लिए है... प्रकृति थी, प्रकृति है और प्रकृति हमेशा रहेगी...    

tum mere samne baitho... kuch shararat ki jaye...

chalo guftagu ke tarike se guftagu ki jaye
tum mere samne baitho... kuch shararat ki jaye...

kuch khat tumhari aankhon se hum bhi padh le...
zara humse nazarein to milao... jee bhar kar tumko padha jaye...

aur

shikwa hai taqdeer hai tumse koi gila nahi
yunh na kisi se apno ko cheena jaye...

- Sun

Tuesday, 16 February 2016

chalo usi moad par aakar hum fhir mil jaye

chalo usi moad par aakar hum fhir mil jaye
tum bhi bano ajnabi... hum bhi ajnabi ban jaye...

yahi zindagi ibadat 
yahi zindagi muskurahat
yahi zindagi jannat-e-jahan ban jaye...

chalo usi moad par aakar hum fhir mil jaye...

kabhi main hun tujhse naraaz
kabhi tu mujhse pareshaa ho jaye
kabhi main tera aksh dhoondhoo
kabhi tu mera chehara banaye...

chalo usi moad par aakar hum fhir mil jaye
tum bhi bano ajnabi... hum bhi ajnabi ban jaye...

- Sun

Nice Line...

Insaan agar chahe to Kutte se bhi 2-4 seekh le sakta hai... Magar tum to us layak bhi nahi nikali...

nice...

Monday, 15 February 2016

duaon ke baad bhi...

duaon ke baad bhi nahi milta kisi ko koi,
koi bin maange hi pa jata hain jaanat-e-jahan!

- Sun

"जैसे चाहता है, वैसे ही कर

बड़ा ही रोचक है यह की पूरी गीता कहने के बाद जब कृष्णा जी, अर्जुन से १८ चैप्टर के ६३वें श्लोक में यह कहते है कि "इस प्रकार यह गोपनीय से भी अति गोपनीय ज्ञान मैंने तुमसे कह दिया । अब तू इस रहस्य युक्त्त ज्ञान को पूर्णतया भली-भाँति विचार कर जैसे चाहता है, वैसे ही कर ।। ६३ ।।" 

फिलॉसफी में जब इसको समझा जाता है की "जैसे चाहता है, वैसे ही कर" 
कर्म तुम्हारे है और तुमको ही करने है.... इसका जो भी फल होगा वह तुमको ही भोगना है, जो भी इसका एक्शन-रिएक्शन होगा तुमको ही भोगना पड़ेगा... आप अपने कर्मो के लिए किसी दूसरों को इल्ज़ाम नहीं लगा सकते
... यह मायाजाल है, कर्मो का जाल है
... इससे बचाना मुश्किल है
... 
 
 

Nice Line...

Bacche... Maa-Baap ki Mohabbaton ka natija hote hai... Jism ki hawas ya bewafai ka nahi...

Nice... 

Saturday, 13 February 2016

हिन्दू धर्म...नेचुरल

हिन्दू धर्म जो है... वह नेचुरल धर्म है... प्राकृतिक... हमनें भगवान, देवी-देवता को किसी न किसी पेड़, पौधे, फूल, रंग, जानवर, पंछी, पहाड़, नदी के साथ जोड़ रखा है... सबको पूजनीय बनाया है... यहाँ तक की "वराह" को श्री विष्णु जी के साथ जोड़ा... "कुत्तों" को काल भैरों के साथ जोड़ा... सबको पूजनीय बनाया है...    

यह हमको यकीन दिलाता है की सबमें ईश्वर मौजूद है... हम इससे ईश्वर के और करीब आते है...

इस प्रकृति में जन्मे हर किसी में उसी ईश्वर का कण मौजूद है... हमको सबका सम्मान करना चाहिये... 
  

Wednesday, 10 February 2016

mujhe maa ka pyar yaad aata hai

mujhe maa ka pyar yaad aata hai
woh toota hua ghar-sansar yaad aata hai...

haavaein bhi, toofan bhi, tez baarish bhi
mujhe woh maa ka aanchal yaad aata hai...

dukh-takleefein kitni dekhi hai, par mujhe
woh maa ka imandari-himmat-sahas badana yaad aata hai...

aur

guzari hai meri zindagi baap ke bina
fir bhi mujhe uski nazaron mein chhupa pyar yaad aata hai...

- Sun

Tuesday, 9 February 2016

हिन्दू... नेचुरल धर्म

हिन्दू धर्म जो है... वह नेचुरल धर्म है... प्राकृतिक... हम पेड़, पौधे, जानवर, पंछी, पहाड़, नदी, पत्थर, आसमान, सूर्य, वायु, मिट्टी... सबकी पूजा करते है... सबको पूजनीय समझते है...

यह हमको यकीन दिलाता है की सबमें ईश्वर मौजूद है... हम इससे ईश्वर के और करीब आते है...

Shikve hai... shikayatein hai... kai gile hai...

Shikve hai... shikayatein hai... kai gile bhi hai...
Humsafar hai mera... Humsafar jaisa bhi hai...

Waqt guzra hai... Mausam nahi badla hai yaaron...
Gum-e-Ishq hai yeh... Ishq hai Ishq... Ishq jaisa bhi hai...

Apni goad mein mera sar rakh kar chalo sunao mujhe bhi pariyon ki kahani...
Dil hai mera dil... Magar bacche jaisa hi hai...

Mit jaati hai saari thakaan safar-e-zindagi ki
Ghar hai mera... Ghar jaisa bhi hai...

- Sun

Sunday, 7 February 2016

MANZIL BHI KAREEB NAHI

MANZIL BHI KAREEB NAHI,
KANTOON NE RASTOON PAR CHALANA MALAL KAR DIYA
USKI YAADON NE ITNA DARD DIYA
KI JEENA DUSHWAAR KAR DIYA!
~*~
JUDA HOTE HUE BHI GALE NA MIL SAKA
BAAHON KO MERI ZANJEER-E-HAAR KAR GAYA
USKI YAADON NE ITNA DARD DIYA
KI JEENA DUSHWAAR KAR DIYA!
~*~
MAUT KI DASTHAK SUNAIYE DE RAHE HAIN KAANOO MAIN ABHI TAK
KOI MOHABBAT KA GHAR SUNSAN KAR GAYA
USKI YAADON NE ITNA DARD DIYA
KI JEENA DUSHWAAR KAR DIYA!
~*~
EK UMAR BEETH GAYE USKI YAADON MEIN JAGATE HUE
MERI AANKHON KO INTEZAAR-E-YAAR KAR GAYA
USKI YAADON NE ITNA DARD DIYA
KI JEENA DUSHWAAR KAR DIYA!

- SUN

Saturday, 6 February 2016

mazaak...

kiski majaal thi jo hamara mazaak banaiye $ultan
yeh to hum khud hi the jo mazaak ban baithe...

- Sun

Timepass : Judge Banna...

pehle khud taye kar lo kis Paldein mein baithe ho...
dusaron ke liye Judge banna bandh karo...

Friday, 5 February 2016

koi phool, khile bina hi tooth gaya

koi phool, khile bina hi tooth gaya
koi khawab poore hue bina hi reh gaya
hum begano se kuch is tarah mile ki
apno se rishta hi tooth gaya..

raat ki doli mein kuch aise sawaar hue
savere se haanth hi chooth gaya
jaaye to ab jaaye kidar
raaste mein tanha khade hai
karwan se naata tooth gaya...

- Sun

Timepass : Thikane...

Miya... apne thikane ke liye to kutte aur bhikhari bhi lad jaate hai... woh to Shauhar tha uska...

pyar kaun deta hai...

pyar kaun deta hai is zamane mein lalle...
badi mehangi cheez hai...

- Sun

Thursday, 4 February 2016

Kuch Pyar Ka Pagalpan Bhi Tha - Zindagi TV Lyrics – Rahat Fateh Ali Khan

Dil Ki Sadah
Na dil Ne Suni
Badti rahi 
Deewangi…

Thi Darmiyaan 
Kuch D
ooriyan
Jaane Thi Kya 
Mazbooriyan

Kuch Dard Mein Dooba Mann bhi tha
Kuch Pyara ka Pagalpan Bhi tha
Kuch Pyara ka Pagalpan Bhi tha
Kuch Dard Mein Dooba Mann Bhi Tha
Kuch Pyara Ka Pagalpan Bhi tha

Khaali Shameyan Thi
Khaali Reh Gayi
Behte Rangoo Mein 
Ankkhe Beh Gayi

Ankahin thi jo
Ansooni thi jo
Saari Battein Woh
Saanse Keh Gayi

Kuch Dard Mein Dooba Mann bhi tha
Kuch Pyara Ka Pagalpan Bhi tha
Kuch Pyara Ka Pagalpan Bhi tha

khuddari

Miya... Mohabbat karne mein aur pairon mein padne mein fark hota hai...

khuddari bhi to koi cheez hai...

- Sun

ilzam... khamoshi

Uspar lagaye gaye mere sabhi ilzamo par mohar uski khamoshi ne laga di hai...

- Sun

Timepass : Bewafa

True... Jin auraton  ke mard bewafa hote hai, unke bacche aise hi lawarish ho jaate hai...

Timepass : Ek Dum True

Miya, isse badi badkismati kya hogi... umarbhar Begum Sahiba ka intezaar kiya, jab Begum Sahiba mili to woh aur kisi ki Begum nikal, saath-2 ek Bacche ki Ammi bhi nikali...

hahahahaha

zabardat... zordaar...

Tauba... Tauba... Tauba...

Tuesday, 2 February 2016

वसुधैव कुटुम्बकम्... मंदिर

वसुधैव कुटुम्बकम् .... मंदिर का जो कॉन्सेप्ट है वह वसुधैव कुटुम्बकम् का है.... "the world is one family" .... हम भगवान की भी पूजा करते है, हम देवताओं की भी पूजा करते है, हम पशु-पक्षी-पेड़-पौधे की भी पूजा करते है... हम कुबेर (यक्ष) की भी पूजा करते है... हम गुरुओं की भी पूजा करते है... राक्षाओं, दानवों की भी पूजा होती है...

यह संसार हमारा परिवार है और हम अपने परिवार के हर सदस्य की पूजा करते है...

Jis tarah ibadat ki hai khuda ki dekhe bagair

Jis tarah ibadat ki hai khuda ki dekhe bagair
Ta-umar tujhe bhi talasha hai teri tasveer ke bagair...

- Sun

Monday, 1 February 2016

गौतम बुद्धा... शिवा...

गौतम बुद्धा... शिवा... बड़ा ही रोचक लगता है.... 

एक जिसके पास धन-सम्पदा, राज-महल, खूबसूरत पत्नी, पुत्र.... यानि की सब सांसारिक सुख... फिर भी वह सब कुछ त्याग कर बैराग जीवन अपना लेता है...

एक तरह शिवा जो बैरागी होते हुए भी, सांसारिक जीवन अपना लेते है... कभी पार्वती माता उनपर प्रेम दिखाती है, तो कभी देवता उनसे सांसारिक जीवन अपनाने के लिए प्रार्थना करते रहते है... कामदेव तो उनपर प्रेम का तीर भी चला देते है... हा हा हा 

इसलिए यह कहना उचित नहीं होगा कि सांसारिक जीवन उच्च है या फिर बैरागी जीवन... 

हाल-ए-दिल

जुबान से उसको क्या सुनाये हाल-ए-दिल रोमिल
सुना है मोहब्बत वाले नज़रों से हाल-ए-दिल पढ़ लेते है...

अदभुत, अविश्वसनीय, अकाल्पनिक... नाज़

अदभुत, अविश्वसनीय, अकाल्पनिक... आज तक चैनल पर कल का शो ३१.०१.२०१६ बड़ा ही जरूरी था मेरे लिए.... प्रोफेसर नंदनी सिन्हा कपूर, नई दिल्ली की स्टोरी मेरी लाइफ की स्टोरी से मिलती-जुलती थी.... उन्होंने अपने स्वर्गीय पति के सबूत इकट्ठा किये... पर मैंने कभी नाज़ के सबूत इकट्ठा नहीं किये थे.... 
 
प्रोफेसर  नंदनी का यह वाक्य अगर आप परमात्मा पर विश्वास करते है और आत्मा पर नहीं करते तो उचित नहीं होगा....
 
जब तक इंसान का वक़्त या कोई विशेष उद्देश्य पूरा नहीं हो जाता वह इस दुनिया से नहीं जा सकता.... और ऐसा ही कुछ मेरा भी नाज़ के साथ था.... तब वह भी मुझे सुनाई देती थी, संकेत देती थी...
 
मानो या फिर न मानो। 
 
मगर  मन से सुन्दर रहो ।