Wednesday, 11 May 2016

Har jawab tere sawalat mein hai - हर जवाब तेरे सवालात में है

Har jawab tere sawalat mein hai
Door lakh sahi tu mujhse, mere khayalat mein hai.

Saaya bhi koi isme sama nahi sakta
Uska ehsaas rooh-e-pak mein hai.

Jurm itna ki ek umardaraz haseen se ishq kar betha
Woh aaj tak dunia ki nighaon mein hai.

Beeta kai daras intezaar mein jis wajah se
Woh aaj bhi usi mohabbat-e-izhaar ke intezaar mein hai.

Aur kahi yeh na ho ki reh jaye keval badan ki chah
Udd jaye woh khushboo jo rooh mein hai.

- Sun.

हर जवाब तेरे सवालात में है
दूर लाख सही तू मुझसे, मेरे ख़यालात में है

साया भी कोई इसमें समां नहीं सकता
उसका एहसास रूह-ए-पाक में है

जुर्म इतना की एक उम्र-दराज़ हसीं से इश्क कर बैठा
वोह आज तक दुनिया की निगाहों में है

बीता कई दरस इंतज़ार में जिस वजह से
वोह आज भी उसी मोहब्बत-ए-इज़हार के इंतज़ार में है

और कही यह न हो कि रह जाये केवल बदन की चाह
उड़ जाये वोह खुशबू जो रूह में है।

- Sun

No comments:

Post a Comment